2019 में कन्नौज से अखिलेश और मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

0
523

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी दल आरोप लगाते हैं कि समाजवादी पार्टी परिवारवाद को बढ़ावा देती है, इसलिये मेरी पत्नी पत्नी डिंपल यादव अगले चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगी.

खास बातें

  1. पार्टी की बैठक में किया ऐलान
  2. कहा- मेरी पत्नी नहीं लड़ेगी चुनाव
  3. 2019 में बसपा के साथ गठबंधन की भी बात कही

नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में अपनी सीट को लेकर घोषणा कर दी है. गुरुवार को उन्होंने कहा कि वह अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में यूपी के कन्नौज से चुनाव लड़ेंगे जबकि उनके पिता और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव मैनपुरी सीट से चुनावी मैदान में उतरेंगे. उन्होंने इसकी घोषणा पार्टी मुख्यालय पर कार्यकर्ताओं की बैठक में  किया. यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी दल आरोप लगाते हैं कि समाजवादी पार्टी परिवारवाद को बढ़ावा देती है, इसलिये मेरी पत्नी पत्नी डिंपल यादव (वर्तमान में कन्नौज की सांसद) अगले चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगी.

यह भी पढ़ें: योगी सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने SP-BSP गठबंधन के बारे में की यह भविष्यवाणी…

गौरतलब है कि पार्टी कार्यकर्ताओं की इस बैठक में डिंपल यादव भी मौजूद थीं. जब उनसे गठबंधन और सीटों के बंटवारे को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जिस पार्टी से भी गठबंधन होगा, हमारे पार्टी कार्यकर्ता भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी को हराने और हमारे प्रत्याशी को जिताने के लिये पूरी तरह से कोशिश करेंगे. भाजपा प्रत्याशियों को इस बार जनता का समर्थन नहीं मिलेगा क्योंकि उन्होंने केवल बातें कीं, वास्तविक धरातल पर कोई भी विकास कार्य नहीं किया है. गौरतलब है कि अखिलेश यादव ने कुछ दिन पहले ही अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में बसपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की बात कही थी.

यह भी पढ़ें: सीएम योगी के प्रमुख सचिव पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाने वाला पकड़ा गया

पिछले दिनों समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने सपा-बसपा गठबंधन को लेकर बड़ा बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि 2019 में बीजेपी को हराने के लिए बीएसपी के साथ हमारा गठबंधन जारी रहेगा. बीजेपी को सत्ता से हटाने के लिए अगर हमें 2-4 सीटों की बलि भी चढ़ानी पड़ी तो भी हम पीछे नहीं हटेंगे. हमारा मक़सद बीजेपी को हराना है और इसके लिए हम कम सीटों पर लड़कर भी बीएसपी से गठबंधन को तैयार हैं. उपचुनावों में बीएसपी से हुआ गठबंधन 2019 में भी जारी रहेगा. अखिलेश यादव का बयान बसपा सुप्रिमो मायावती के बयान के बाद आया है.

यह भी पढ़ें: ‘एक देश, एक चुनाव’ पर अखिलेश ने BJP को दी चुनौती, 2019 के साथ ही सारे चुनाव करा लेंं

हाल ही में बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा था कि दूसरे दलों से गठबंधन तभी होगा जब हमें सम्मानजनक सीटें मिलें. मायावती के इस बयान के बाद अखिलेश का ये बयान काफ़ी अहम माना जा रहा है. वहीं उत्तर-प्रदेश के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा और बसपा के बीच अनौपचारिक गठबंधन के लम्बा न टिकने का दावा करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले ही यह गठबंधन टूट जायेगा.

उन्‍होंने कहा कि सपा और बसपा आपस मे लड़कर ही खत्म हो जायेंगे. यह मुद्दों पर आधारित गठबंधन नहीं है. मुद्दाविहीन गठबंधन कभी भी दीर्घायु नहीं होता.(इनपुट भाषा से)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here