Home उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड होम्योपैथिक जन-जागरूकता एवं चिकित्सा शिविर का आयोजन

होम्योपैथिक जन-जागरूकता एवं चिकित्सा शिविर का आयोजन

0
294
ऋषिकेष ( विरमानी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत के मार्गदर्शन में आयुष विभाग की होम्योपैथी यूनिट की ओर से हरिद्वार के लक्सर स्थित श्रीसीमेंट फैक्ट्री में होम्योपैथिक जन-जागरूकता एवं चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें 200 से अधिक मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इस दौरान उन्हें होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति को लेकर जागरूक भी किया गया। इस अवसर पर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि भारत को प्राचीन चिकित्सा पद्धतियों की अतुलनीय विरासत प्राप्त है। जिसमें होम्योपैथी, यूनानी, आयुर्वेद, योग और सिद्धा आदि प्राचीन चिकित्सा पद्धतियां शामिल हैं। एम्स निदेशक प्रो.रवि कांत ने आयुर्वेद के क्षेत्र में अनुसंधान की  जरुरत बताई, जिससे इस चिकित्सकीय विधा का विकास हो और लोगों को इस पद्धति का संपूर्ण लाभ मिल सके। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो.रवि कांत  ने कहा कि संस्थान इन तमाम प्राचीन चिकित्सा पद्धतियों को आगे बढ़ाने और इनमें अनुसंधान के लिए कार्य करेगा। उन्होंने बताया कि एम्स के समक्ष इसके लिए एक अच्छा अवसर है कि सरकार ने संस्थान में आयुष विंग स्थापित की है।
शिविर में डॉ. वैशाली गोयल ने करीब 210 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। उन्होंने बताया कि शिविर में बुखार, स्त्री रोग,अस्थमा, त्वचा रोग, गठिया, पेट संबंधी विकार आदि से ग्रस्त रोगियों का  उपचार किया गया व दवाइयां वितरित की गई।
आयुष विभाग की प्रमुख प्रोफेसर वर्तिका सक्सेना ने बताया कि आयुष को बढ़ावा देने के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश की ओर से विभिन्न क्षेत्रों में नियमिततौर पर जागरूकता शिविरों का आयोजन किया जा रहा है,उन्होंने बताया कि यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा । शिविर में हेमा, नितेंद्र, पूजा, लक्ष्मी, क्रेजो,मिलोफर आदि ने सहयोग किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here