फिर गर्दिश में कांग्रेस के सितारे–बिहार और मध्य प्रदेश में असफलता के बाद उभरने लगे असंतोष के सुर

0
51

                (शिब्ली रामपुरी)
इसमें कोई दो राय नहीं है कि कांग्रेस जहां काफी वक्त से सियासी मैदान में काफी मजबूत नजर आती है लेकिन वहीं चुनाव नतीजों के परिणाम कुछ और ही कहानी बयान करते दिखाई देते हैं. बिहार विधानसभा चुनाव और मध्य प्रदेश के उपचुनाव हमारे सामने हैं कि किस तरह से कांग्रेस को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा. बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन सत्ता से दूर रहा तो इसका ठीकरा एमआईएम जैसी पार्टी पर भी फोड़ा जा रहा है. कहां जा रहा है कि ओवैसी की पार्टी ने 5 सीटें जरूर जीती है लेकिन उसने महागठबंधन का कई सीटों पर भारी नुकसान किया है और इसी वजह से महागठबंधन सत्ता से दूर रहने में नाकामयाब रहा. दूसरी ओर एमआईएम के चीफ ओवैसी खुद पर वोट कटवा के आरोपों को पूरी तरह से बेबुनियाद बताते हैं. बिहार के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस 70 सीटों पर उतरी थी लेकिन उसको कामयाबी सिर्फ 19 सीटों पर ही मिल सकी. यहां तक कि गठजोड़ का हिस्सा रही सीपीआई-एमएल ने भी 19 सीटों पर उतरते हुए 12 सीटों पर सफलता हासिल की. बिहार में कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन से वहां के कुछ नेता काफी असंतुष्ट नजर आते हैं और वह कई तरह के सवाल भी उठा रहे हैं. यहां तक कि कांग्रेस के सीनियर नेता तारिक अनवर ने भी कांग्रेस के बुरे प्रदर्शन की बात स्वीकार करते हुए ट्वीट किया है. तारीक अनवर के मुताबिक हमें सच को स्वीकार करना चाहिए कांग्रेस के कमजोर प्रदर्शन के कारण महागठबंधन की सरकार से बिहार महरूम रह गया. कांग्रेस को इस विषय पर आत्मचिंतन जरूर करना चाहिए कि उस से कहां चूक हुई? हालांकि तारिक़ अनवर एमआईएम पर भी भड़ास निकालते हुए नजर आते हैं जब वह लिखते हैं कि बिहार में एमआईएम की एंट्री शुभ संकेत नहीं है. तारिक अनवर मूल रूप से बिहार से ही आते हैं और वह कांग्रेस के महासचिव हैं. दूसरी ओर मध्य प्रदेश के उपचुनाव में कांग्रेस ने जिस तरह से शिकस्त का सामना किया उसके बाद से वहां पर भी कुछ खींचातानी की खबरें आ रही हैं. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ के इस्तीफे की मांग उपचुनाव में शिकस्त के बाद से तेज होने लगी है. कांग्रेस के एक नेता ने तो इस बारे में वीडियो जारी करते हुए कमलनाथ पर निशाना साधा है और उनके इस्तीफे की मांग की है. सीहोर से कांग्रेस के नेता हरपाल सिंह ठाकुर ने वीडियो जारी कर मांग की है कि कमलनाथ को इस्तीफ़ा दे देना चाहिए. हरपाल के मुताबिक 2019 के लोकसभा चुनाव में जब कांग्रेस को शिकस्त का सामना करना पड़ा तो राहुल गांधी ने अपने पद से इस्तीफा दिया था ऐसे में कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष और विपक्ष के नेता के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. अब वक्त है कि किसी नए नेता को मौका दिया जाए. हरपाल सिंह से पहले कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह ने भी कमलनाथ पर निशाना साधा था उन्होंने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा था कि कमलनाथ ने टिकट बंटवारे के वक्त किसी से सलाह नहीं ली और अपनी मर्जी के सर्वे से ही टिकट बांट दिए. इन सब बातों से साफ है कि कांग्रेस के अंदर फिर से असंतोष के सुर उभरने लगे हैं और कांग्रेस के सितारे एक बार फिर से गर्दिश में नजर आ रहे हैं. ऐसे में कांग्रेस की ओर से क्या कदम उठाया जाता है इस पर सभी की निगाहें लगी हुई हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here