नोएडा में एक और ‘यादव सिंह’ : सैलरी 65 हजार महीना और संपत्ति 200 करोड़ से अधिक

0
567

65 हजार रुपये वेतन पाने वाले प्राधिकरण के सहायक इंजीनियर ब्रजपाल चौधरी के घर छापेमारी में 200 करोड़ से ज़्यादा की चल -अचल संपत्ति का पता चला है.

खास बातें

  1. नोएडा प्राधिकरण के सहायक इंजीनियर ब्रजपाल चौधरी पर छापेमारी
  2. आयकर विभाग को छापेमारी में मिली 200 करोड़ से अधिक की संपत्ति
  3. ऑडी, जैगुआर जैसी गाड़ियां, सभी गाड़ियों के नंबर एक जैसे
नोएडा : नोएडा प्राधिकरण में ‘यादव सिंह’ जैसा एक और मामला सामने आया है. प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर यादव सिंह पहले ही जेल की हवा खा रहे हैं. अब प्रधिकरण के ही एक और सहायक इंजीनियर ब्रजपाल चौधरी पर आयकर विभाग ने छापेमारी की. छापेमारी के दौरान ब्रजपाल चौधरी की संपत्ति देखकर अधिकारी भी दंग रह गये. सिर्फ 65 हजार रुपये वेतन पाने वाले ब्रजपाल चौधरी के घर छापेमारी में 200 करोड़ से ज़्यादा की चल -अचल संपत्ति का पता चला है. आयकर विभाग ने तीन दिन की छापे मारी में करोड़ों के होटल, बंगले, लक्ज़री गाड़ियां और 20 तोले से ज़्यादा सोना बरामद किया है. आयकर विभाग की छापेमारी में फरीदाबाद के सेक्टर-91 में आलीशान मकान, पांच बैंकों में खाते व लॉकर,  नोएडा सेक्टर-52 में 450 वर्ग मीटर पर आलीशान कोठी, नोएडा सेक्टर-33 में तीन मंजिला मकान, नोएडा सेक्टर-63 में 1000 वर्ग मीटर की प्रापर्टी, नोएडा के सेक्टर 63 में ही आलीशान मोती महल होटल,  नोएडा के मामूरा में 6,000 वर्ग मीटर जमीन,  नोएडा के भंगेल सेक्टर-110 में ऑलीशान रामा बैंक्वेट हाल,  पिलखुवा में दिल्ली वन पब्लिक स्कूल,  मोदीनगर में कृषि फार्म और 20 तोला सोने का पता चला है.

brajpal

नोए़डा प्राधिकरण के सहायक इंजीनियर ब्रजपाल चौधरी का आलीशान मकान 

यह भी पढ़ें : 1,000 करोड़ का इंजीनियर? कौन है वाईएस…

वहीं छापेमारी में ब्रजपाल के पास से करोड़ से ज़्यादा कीमत रखने वाली ऑडी, जैगुआर समेत 5 गाड़ियों का भी पता चला है और रुतबे का आलम ये है कि सभी गाड़ियों का आख़िरी के नंबर एक जैसे 6666 हैं. आयकर विभाग को ब्रजपाल की दो बीवियों का पता चला है. जिसमें से एक नोएडा और दूसरी फ़रीदाबाद में रहती है. दोनों ही पत्नियों से ब्रजपाल के 6 बच्चे हैं. पहली से तीन और दूसरी से तीन. पर हैरान करने वाली बात ये है कि ब्रजपाल ने पहली और दूसरी पत्नी से हुए बच्चों के नाम एक जैसे रखे हैं, ताक़ि उनके नाम पर वो अवैध लेन देन करके भी जांच एजेंसियों की नज़रों से बचा रहे. पूरी घटना पर जब ब्रजपाल के परिवार से मीडिया ने सवाल पूछा तो उन्होंने मीडिया पर ही सवाल उठाते हुए पूरी जांच को फ़र्ज़ी बता दिया. आयकर विभाग ने ब्रजपाल के सभी ख़ाते सीज़ कर दिए हैं. साथ ही नोएडा प्राधिकरण ने रेड के बाद ब्रजपाल को सस्पेंड भी कर दिया है. ब्रजपाल की काली कमाई खुली तो उसका ब्लड प्रेशर इतना बढ़ गया कि डॉक्टरों को बुलाना पड़ा.

brajpal

नोए़डा प्राधिकरण के सहायक इंजीनियर ब्रजपाल चौधरी का बैंक्वेट हॉल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here