दुर्भाग्य है 70 सालों में एक भी संन्यासी को भारत रत्न नहीं मिला:रामदेव

0
235

नई दिल्ली :पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रसिद्ध संगीतकार-गायक भूपेन हजारिका और भारतीय जनसंघ के नेता एवं समाजसेवी नानाजी देशमुख को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ प्रदान किया जाएगा। एक आधिकारिक बयान में सरकार ने कहा कि देशमुख और हजारिका को मरणोपरांत इस सम्मान के लिए चुना गया है। एक आधिकारिक बयान में शुक्रवार को यह जानकारी दी गई है। चार साल के अंतराल के बाद भारत रत्न पुरस्कार दिया जाएगा। वर्ष 2015 में नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक मदन मोहन मालवीय को इस सम्मान से नवाजा गया था।इस पर योग गुरु बाबा रामदेव ने अपनी प्रतिक्रया देते हुए  कहा कि दुर्भाग्य है 70 सालों में एक भी संन्यासी को भारत रत्न नहीं मिला। महाऋषि दयानंद सरस्वती, स्वामी विवेकानंद जी या शिवकुमार स्वामी जी। मैं भारत सरकार से आग्रह करता हूं कि अगली बार कम से कम किसी संन्यासी को भी भारत रत्न दिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here