घर में पत्नी के साड़ी न पहनने से नाराज पति ने तलाक की अर्जी लगाई–समझाने बुझाने के बाद पति और पत्नी एक साथ रहने के लिए राजी

0
1125

पुणे:अरुण और मनीषा ( बदले हुए नाम) को उनके बच्चों का हवाला देकर समझाने की कोशिश की गई। 32 वर्षीय अरुण स्नातक हैं और एक निजी कंपनी में काम करते हैं और उनकी पत्नी मनीषा 12वीं पास और हाउस वाइफ हैं। शादी के बाद मनीषा घर में  वक्त सूट पहनती थी और इसकी वजह से उनके घर में हमेशा झगड़े होते थे।मनीषा की सास उसके सूट पहनने के खिलाफ थी। लेकिन बहू को घर में साड़ी पहनना अच्छा नहीं लगता था। मनीषा की सास का मानना था कि समाज के लोग क्या कहेंगे। मनीषा के सास का कहना था उनकी लड़की अपने ससुराल में साड़ी पहनती है, लिहाजा उसे भी साड़ी पहननी चाहिए। मनीषा के पति ने अपनी मां की हां में हां मिलाई। सास और पती का कहना मनीषा को ठीक लगता था लेकिन घर में सूट पहनने की इजाजत दी जाये यह मनीषा का कहना था. पुणे से एक विचित्र मामला सामने आया है। घर में पत्नी के साड़ी न पहनने से नाराज पति ने तलाक की अर्जी लगाई। शिवाजीनगर जिला न्यायालय में दायर किया गया था। लेकिन समझाने बुझाने के बाद पति और पत्नी एक साथ रहने के लिए राजी हो गए।जुलाई महीने में अरूण ने तलाक के लिए अर्जी दायर की। यह केस कोर्ट ने आपसी समझौते के लिए भेज दिया। दोनों पति और पत्नी की बात सुनी गयी। सास के पुराने ख्यालात के वजह से अरूण,मनीषा और उसके छोटे बच्चे के मानसिक हालात पर क्या असर हो रहा है उन्हें ये समझाने और बताने की कोशिश की गई। समझाने के दौरान मनीषा को घर में सूट पहनना और फंक्शन में साडी पहनने की इजाजत दी गयी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here