खुद के घर पैदा नही हुई बेटी तो करने लगा दूसरों की बच्चियों का अपहरण

0
263

नई दिल्ली:पुलिस ने बताया कि कीर्ति नगर में जवाहर कैम्प के एक निवासी ने शुक्रवार को अपनी आठ वर्षीय बेटी की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई. जो पास के ही एक सार्वजनिक शौचालय में गई थी. अगले दिन सुबह लड़की अपने आप सुरक्षित घर पहुंच गई. पूछताछ में लड़की ने बताया कि वह शौचालय गई थी जहां एक व्यक्ति ने उसे अपनी बाइक पर अपने घर ले चलने का लालच दिया.दिल्ली पुलिस ने बेटी की चाह रखने वाले 40 वर्षीय व्यक्ति को पश्चिमी दिल्ली से दो लड़कियों का अपहरण करने के आरोप में गिरफ्तार किया  है. पुलिस ने सोमवार को बताया कि आरोपी की पहचान कृष्ण दत्त तिवारी के रूप में हुई है. वह पेशे से ड्राइवर है और राजौरी गार्डन में रहता है.इस बारे में पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) मोनिका भारद्वाज ने बताया कि लड़की रातभर उस व्यक्ति के घर में रही और अगली सुबह उसे उसके घर के पास के एक स्थान पर छोड़ दिया गया. लड़की ने यह भी कहा कि आरोपी ने उसे नुकसान नहीं पहुंचाया.भारद्वाज ने बताया कि जांच के दौरान पुलिस ने आसपास के इलाकों की सीसीटीवी फुटेज खंगाली और देखा कि एक व्यक्ति लड़की को राजौरी गार्डन के समीप रिंग रोड पर छोड़ रहा है.पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, आरोपी ने बताया कि उसके दो बेटे हैं और वह हमेशा से एक बेटी चाहता था. डीसीपी ने बताया कि पूछताछ में पुलिस को पता चला कि उसने लालच दिया और लड़की का अपहरण किया तथा उसे रात भर अपने पास रखा. बाद में उसने यह भी कबूल किया कि करीब दो महीने पहले उसने हरी नगर इलाके से आठ वर्षीय लड़की का अपहरण किया था.उस समय भी उसने लड़की को दो से तीन दिन अपने पास रखने के बाद छोड़ दिया था. पुलिस ने बताया कि जब भी तिवारी का परिवार उससे यह पूछता कि लड़कियां कहां से आई हैं तो वह उन्हें बताता कि लड़की उसके दोस्त की बेटी है जो बाहर गया हुआ है.पुलिस जांच में सामने आया है कि आरोपी ने बच्चियों के साथ छेड़छाड़ या गलत काम नहीं किया। बच्चियों ने भी इससे इनकार किया है।आरोपी के दो बेटे हैं। उसकी एक बेटी की चाह है। इसके चलते वह सड़क पर खेलने वाली बच्चियों को उठाकर अपने घर ले जाता था। वह अपनी पत्नी से कहता था कि बच्ची उसके दोस्त की बेटी है। वह बच्ची को नए कपड़े, और खाने की चीजें दिलाकर अगले दिन उसके घर के पास छोड़ आता था। आरोपी ने बीते वर्ष अक्तूबर में हरिनगर से भी एक बच्ची का अपहरण किया था। इसके दो दिन बाद वह बच्ची को उसके घर के ठीक सामने स्थित पार्क में छोड़ आया था, ताकि परिजनों को बच्ची आसानी से मिल जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here