एकजुट हुए बॉलीवुड ने किया अदालत का रुख़

0
55

 

    (शिब्ली रामपुरी) 

बॉलीवुड अब एकजुटता दिखाते हुए अदालत गया है और बॉलीवुड के कई नामी फिल्म स्टारों ने बॉलीवुड को बदनामी से बचाने के लिए अदालत का रुख किया है. दिल्ली हाईकोर्ट में बॉलीवुड को गंदा. मैला और नशे का अड्डा बताने वाले कुछ न्यूज़ चैनलों के खिलाफ फिल्म निर्माताओं ने याचिका दायर की है. इनका कहना है कि कुछ टीवी चैनलों ने बॉलीवुड को बदनाम करने में कोई कसर बाकी नहीं रखी. दूसरी तरफ कंगना रनौत भी एक बार फिर से मुखर हैं और उन्होंने कहा है कि एक केस मुझ पर भी दर्ज कर दिया जाए. कंगना रनौत ने बॉलीवुड के नामी फिल्म निर्माताओं द्वारा अदालत का रुख करने के बाद ट्वीट करते हुए लिखा कि मैं जब तक जिंदा रहूंगी ऐसे लोगों की पोल खोलती रहूंगी एक केस मुझ पर भी दर्ज करा दिया जाए. काबिले गौर है कि यह सारा मामला अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से उठा था और बॉलीवुड के दिग्गज निर्माता निर्देशकों से लेकर कई फिल्म स्टारों तक पर नेपोटिज्म भेदभाव जैसे आरोप लगाए गए थे इतना ही नहीं कंगना रनौत और कुछ और फिल्म स्टारों ने ड्रग्स मामले को लेकर भी काफी बयानबाजी की थी. इस मामले में एक खास बात यह भी कि कुछ टीवी चैनलों ने इसे 24 घंटे का एक तरह से शो बना कर रख दिया था और वह लगातार अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में तरह तरह से कार्यक्रम/डिबेट दिखा रहे थे. जिससे सोशल मीडिया पर तो काफी संख्या में लोग यह तक लिख रहे थे कि आखिर क्या देश में एक ही मुद्दा रह गया है. सुशांत सिंह राजपूत की मौत का सबको दुख है लेकिन क्या सिर्फ एक ही मुद्दे को इतना तूल दिया जा रहा था कि सभी समस्याएं दरकिनार कर सुशांत सिंह राजपूत का मामला जरूरत से ज्यादा दिखाया जा रहा था. कुछ टीवी चैनलों के एंकर तो इस मामले में एक तरह से आक्रामक रुख अख्तियार किए हुए थे. फिलहाल कुछ वक्त से इस मामले को मीडिया ने तवज्जो कम देनी शुरू कर दी है. लेकिन अब बॉलीवुड ने एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए ऐसे टीवी चैनलों के खिलाफ अदालत का रुख कर लिया है कि जिन्होंने बॉलीवुड की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया था. जो लोग बॉलीवुड के अदालत गए हैं वह मामूली नहीं है उनमे चार बॉलीवुड एसोसिएशन व 34 बॉलीवुड निर्माताओं की ओर से याचिका दाखिल की गई है. इन फिल्म निर्माताओं में करण जौहर की धर्मा प्रोडक्शन शाहरुख खान की रेड चिलीज इंटरटेनमेंट अजय देवगन आमिर खान सलमान खान के प्रोडक्शन हाउस तक के नाम हैं. जाहिर सी बात है कि बॉलीवुड को छवि खराब होने से काफी नुकसान हो रहा था और वहां पर काम करने वाले जो लोग हैं वह खुद को एक तरह से अपमानित महसूस कर रहे थे और इसी को देखते हुए उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया है. वैसे देखा जाए तो बॉलीवुड में नेपोटिज्म भेदभाव और ड्रग्स आदि के मामले कोई नए नहीं है. लेकिन फिलहाल जिस तरह से इन मामलों को तूल दिया गया और बहुत बड़े-बड़े नामवर लोगों को कटघरे में खड़ा करने का प्रयास किया गया वह किसी तरह से भी उचित नहीं है. बॉलीवुड में काफी खराबियां हो सकती हैं दूसरे क्षेत्रों की तरह लेकिन यह भी सही नहीं है कि पूरे बॉलीवुड को ही ख़राब बता दिया जाए या फिर बॉलीवुड के ऐसे लोगों पर भी आरोप लगाए जाएं कि जिनका नेपोटिज्म भेदभाव या फिर ड्रग्स आदि से दूर दूर तक भी कोई वास्ता नहीं. यहां यह कहना भी गलत नहीं होगा कि कुछ ऐसे लोग भी बॉलीवुड से ही सामने आए थे जिन्होंने किसी ना किसी तरह की पब्लिसिटी या कहें शोहरत या फिर खुद की बेरोजगारी दूर करने का प्रयास करते हुए बॉलीवुड के नामी गिरामी लोगों के खिलाफ बयानबाजी की. अब देखना यह है कि बॉलीवुड की एकजुटता क्या रंग लाती है इस पर सभी की निगाहें लगी हुई हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here